Wednesday, October 5, 2022
The Funtoosh
Homeक्रिकेटPODCAST: परवान चढ़ते क्रिकेट के महाकुंभ आईपीएल में किसके हाथ लगी बाजी...

PODCAST: परवान चढ़ते क्रिकेट के महाकुंभ आईपीएल में किसके हाथ लगी बाजी और कौन हुआ निराश – cricket podcast ipl women world cup ms dhoni kolkata knight riders punjab kings suno dil se nodakm


… इस बार धोनी ने पहले ही मैच मे उस समय अर्धशतक जमाया, जब सीएसके की टीम कम स्कोर पर कीमती विकेट खो चुकी थी. आखिरी गेंद पर अर्धशतक पूरा कर धोनी ने पुराने दिनों की याद ताजा करा दी. कल रात दूसरे मैच में भी सिर्फ 6 गेंदों पर नाबाद 16 रन बनाकर धोनी ने इस बार बल्ले से बेहतर करने का संकेत दिया है.


सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों को इस पॉडकास्ट में समेटे मैं हाजिर हूँ, स्वीकार कीजिए संजय बैनर्जी का नमस्कार- पेश है- सुनो दिल से..

दुनिया की क्रिकेट का महाकुंभ आईपीएल अब लम्हा लम्हा परवान चढ़ने लगा है. हर गुज़रता दिन इसके रोमांच को बढ़ा रहा है. शुरुआती दौर के मैचों में कुछ नए नाम उभरकर सामने आए, तो वहीं कुछ दिग्गज खिलाड़ियों ने भी अपने हाथ दिखाए. एमएस धोनी के बाद उमेश यादव और कुलदीप यादव ने भी अपनी गेंदबाजी का कमाल दिखाया. अभी यह शुरुआती दौर है, और कयास लगा पाना कि किसकी संभवना बेहतर है, जल्दबाजी होगी. चार टीमें अब तक दो-दो मैच खेल चुकी हैं, लेकिन किसी के भी हिस्से दूसरी जीत नहीं आई है. डिफ़ेंडिंग चैंपियन सीएसके ने तो दोनों मुकाबलों मे हार के साथ आगाज किया है. नई टीम लखनऊ सुपर जाएंट्स ने कल जबरदस्त चेज़ करके चेन्नई के मुंह से जीत का निवाला निकाल लिया. चेन्नई ने रॉबिन उथप्पा, शिवम दुबे और मोईन अली की बल्लेबाजी की बदौलत 20 ओवर में 210 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया, लेकिन लखनऊ ने हार न मानी और 3 गेंद बाकी रहते लक्ष्य हासिल कर लिया. लोकेश राहुल और क्विंटन डी कॉक ने जोरदार शुरुआत दी और एवीन लुईस ने इस शुरुआत को खूबसूरत अंजाम भी दे दिया.

आईपीएल को युवा खिलाड़ियों के साथ-साथ रिटायरमेंट की दहलीज पर खड़े खिलाड़ियों के लिए भी बढ़िया प्लेटफॉर्म माना जाता रहा है,  कुछ को यहाँ से नाउम्मीदी के बीच उम्मीद की किरण भी दिखाई देती रही है. एसएम धोनी को ही लीजिए, लंबे समय से उनके बल्ले से हमेशा ही रनों की किल्लत रही है. लेकिन, इस बार धोनी ने पहले ही मैच मे उस समय अर्धशतक जमाया, जब सीएसके की टीम कम स्कोर पर कीमती विकेट खो चुकी थी. आखिरी गेंद पर अर्धशतक पूरा कर धोनी ने पुराने दिनों की याद ताजा करा दी. कल रात दूसरे मैच में भी सिर्फ 6 गेंदों पर नाबाद 16 रन बनाकर धोनी ने इस बार बल्ले से बेहतर करने का संकेत दिया है.

चेन्नई सुपर किंग्स की तरह गत उपविजेता कोलकाता नाइट राइडर्स को भी नए कप्तान के साथ आईपीएल में उतरना पड़ा. धोनी की जगह रविंद्र जडेजा ने कप्तानी संभाली, जबकि श्रेयस अय्यर ने कोलकाता नाइट राइडर्स की कमान थामी. लेकिन अय्यर की टीम कोलकाता जहां जीत गई, वहीं जडेजा को बतौर कप्तान अब तक हार का ही सामना करना पड़ा.

उधर विराट कोहली के रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू की कप्तानी छोड़ने के बाद फाफ डू प्लेसिस ने पहले ही कप्तानी मुकाबले में जोरदार पारी खेली और 88 रन बना डाले. लेकिन डू प्लेसिस भी टीम को पहले मैच में जीत दिलाने में नाकामयाब रहे. फिर भी उसने दूसरे मैच में कोलकाता से मुकाबला जीत ही लिया. आरसीबी को पहले मैच में पंजाब किंग्स ने हराया. पंजाब को जीत दिलाने में युवा शाहरूख खान के साथ ओडियन स्मिथ की भूमिका ने बड़ा योगदान किया. ओडियन की आठ गेंदों पर तीन छक्कों की बदौलत बनाये गए 25 रन को किसी भी बड़ी पारी से ज्यादा उपयोगी माना जा सकता है.

दूसरी ओर मुंबई इंडियंस की टीम पहले ही मैच में जरूर हार गई पर ईशान किशन ने 81 रन की पारी खेलकर साबित किया कि इस साल की नीलामी में सबसे महंगे खिलाड़ी के रूप में खरीदना सही निर्णय था. मुंबई को हराने में ललित यादव और अक्षर पटेल की तेज पारी ने बड़ी भूमिका निभाई.

पहले और दूसरे राउंड के कुछ मैचों में उमेश यादव, संजू सैमसन, युजवेंद्र चहल, हसरंगा, आकाशदीप ने व्यक्तिगत तौर पर दर्शकों की तालियां बटोरीं. दो नई टीमों में से एक लखनऊ सुपरजाइंट्स को दूसरे मैच में जीत का स्वाद मिला, जबकि गुजरात टाइटंस ने जीत के साथ ही लीग का आगाज किया.

लीग मे तीसरा मुकाबला खेलने वाली कोलकाता नाइटराइडर्स पहली टीम होगी, जिसकी भिड़ंत आज पंजाब किंग्स के साथ होनी है. केकेआर ने शुरुआत तो जीत के साथ की, लेकिन दूसरे मैच में उसे आरसीबी ने हरा दिया.

इधर दिल्ली कैपिटल्स के लिए पहले से ही एनरिक नोर्खिया रिहेब में हैं. अब आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी मिचेल मार्श को भी रिहेब के लिए जाना पड़ेगा. पाकिस्तान में चोट के कारण मार्श व्हाइट बॉल सीरीज से हट गए हैं, लेकिन आईपीएल में उनके खेलने की संभावना बनी हुई है.

इधर महिला वर्ल्ड कप का अब सिर्फ खिताबी मुकाबला बाकी है. लेकिन भारतीय टीम जिस तरह से प्रतियोगिता से बाहर हुई, उसने सभी को मायूस कर दिया है. आखिरी लीग मैच मे दक्षिण अफ्रीका से आखिरी गेंद पर मिली शिकस्त ने करोड़ों भारतीय क्रिकेट प्रेमियों के दिल तोड़ दिए. इस शिकस्त के बावजूद भारतीय टीम ने प्रभावित किया. झूलन गोस्वामी का उपलब्ध न रहना और फिनिशर्स की कमी टीम की हर का कारण बनी, अन्यथा शुरुआत तो शानदार थी.

भारत के सेमीफाइनल मे नहीं पहुँच पाने से वेस्टइंडीज की लॉट्री खुल गई, लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने उसे सेमीफाइनल मे 157 रन से जिस तरह धोया, उससे साफ हो गया कि कम से कम इस बार वह सेमीफाइनल की हकदार नहीं थी. बारिश की वजह से देर से शुरू मुकाबले मे ओवरकास्ट मौसम का लाभ लेने की नियत से वेस्टइंडीज ने पहले फील्डिंग चुनी, लेकिन सिर मुँड़ाते ही ओले पड़ने वाली कहावत चरितार्थ हो गई, और ऑस्ट्रेलिया की सलामी जोड़ी हीली और हेन्स ने 216 रन की साझेदारी कर वेस्टइंडीज की जीत की किसी भी संभावना को खारिज कर दिया. हीली ने 129 रन बनाए और हेन्स 85 रन बनाकर आउट हुईं. 306 रन बनाकर मैच जीतने की चुनौती का सामना करते हुए वेस्टइंडीज ने शुरू मे ही घुटने टेक दिए. कप्तान टेलर ने 48 रन बनाए जरूर, लेकिन 75 गेंदों का सामना किया. डोटिन और मैथयूस ने 34-34 रन की पारियाँ खेलीं. इस नीरस मैच में वेस्टइंडीज शुरू से आखिर तक सिर्फ औपचारिकता निभाता रहा.

उधर दूसरे सेमीफाइनल मे भी नतीजा एकतरफा रहा. इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को 137 रन के बड़े मार्जिन से हराकर फाइनल मे जगह बनाई. दक्षिण अफ्रीका अब तक ज़्यादारतर मैच आखिरी ओवर मे चेज़ करके जीतता रहा है, सो दूसरे सेमीफाइनल मे भी उसने टॉस जीतकर इंग्लैंड को बल्लेबाजी का न्योता दिया, जिसे इंग्लैंड की बैटर्स ने दोनों हाथों से कबूल कर लिया. ब्यूमॉन्ट तो जल्दी आउट हो गईं, लेकिन व्याट ने एक छोर संभाल लिया और 129 रन बनाए. उनके अलावा सोफिया ने भी 60 रन की पारी खेली. शबनम इस्माइल ने थोड़ा बहुत असर डाला और 3 विकेट भी निकाले.

दक्षिण अफ्रीका अब तक चेज़ करके बेहतर करती रही है, लेकिन इस बार बड़े मुकाबले का दबाव उस पर साफ झलक रहा था. लौरा वॉल्वर्ट खाता नहीं खो पाई और उनकी साथी लिजेल ली सिर्फ 2 रन बनाकर आउट हो गईं. वाल्वर्ट का आउट होना, टीम के लिए सबसे बड़ा सदमा था, क्योंकि इससे पहले उन्ही की दम पर दक्षिण अफ्रीका ने सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था. सोफी एकलेस्टन ने 6 विकेट लेकर कहर बरपा दिया.

बहरहाल फाइनल अब ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच है, जो रविवार को क्राइस्टचर्च मे खेला जाएगा. वैसे ऑस्ट्रेलिया को खिताब जीतने का सबसे प्रबल दावेदार माना जा रहा है, अब तक वह लगातार 11 मुकाबले जीत चुका है, और टीम मे गजब का संतुलन है. देखना होगा की ऑस्ट्रेलिया के लिए क्या पेरी की वापसी हो सकेगी.

और अब अंत में एक नजर घरेलू क्रिकेट पर. सीके नायुडू ट्रॉफी में दूसरे राउंड के मुकाबले आज खत्म हो रहें हैं. चार दिवसीय कुछ मुक़ाबले पहले ही खत्म हो चुके हैं. टूर्नामेंट का पहला परिणाम तीसरे दिन कल आया जब केरल ने हिमाचल प्रदेश को हरा दिया. इसमें विजेता टीम के लिए फानूस फ़ैज़ ने 11 विकेट लिये जबकि अखिल स्कारिया ने चार विकेट लेने के अलावा 90 रन की शानदार पारी भी खेली. उधर बंगाल के सुदीप घरामी ने लगातार दूसरे मैच में शतक ठोका. उसी तरह गुजरात के प्रियेश पटेल ने दोहरा शतक जमाया.

इससे पहले पहले दौर में कुल 27 शतक लगे. सौराष्ट्र ने तो एक मुकाबले मे बिहार को दूसरे दिन ही पारी से हरा दिया था. बिहार ने एक ही दिन में दोनों पारी के अपने सभी 20 विकेट खो दिए थे.

यह था सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों पर आधारित पोडाकस्ट, सुनो दिल से- संजय बैनर्जी को अनुमति दीजिए. अगले हफ्ते फिर मुलाकात होगी, चलते रहिए न्यूज़18 के साथ, नमस्कार.





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
The Funtoosh

Most Popular

Recent Comments