Sunday, October 2, 2022
The Funtoosh
Homeपैसा बनाओकोराना काल में एक्सपोर्ट के मोर्चे पर भारत का दमदार प्रदर्शन, पीयूष...

कोराना काल में एक्सपोर्ट के मोर्चे पर भारत का दमदार प्रदर्शन, पीयूष गोयल ने कही ये बात


़नई दिल्ली. भारत एक्सपोर्ट में भारत लगातार परचम लहरा रहा है. पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स, इंजीनियरिंग, जेम्स-ज्वेलरी और केमिकल सेक्टर्स के बेहतर प्रदर्शन के कारण वित्त वर्ष 2021-22 में भारत की वस्तुओं का एक्सपोर्ट 418 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. कॉमर्स और इंडस्ट्री मिनिस्टर पीयूष गोयल ने रविवार को पिछले वित्त वर्ष के व्यापार आंकड़े जारी करते हुए यह जानकारी दी. वित्त वर्ष 2018-19 में यह आंकड़ा 330 अरब डॉलर था.

आंकड़ों के अनुसार, मार्च, 2022 में देश ने 40 अरब डॉलर का निर्यात किया जो एक महीने में एक्सपोर्ट का सर्वोच्च स्तर है. इसके पहले मार्च, 2021 में एक्सपोर्ट का आंकड़ा 34 अरब डॉलर था.कॉमर्स और इंडस्ट्री मिनिस्ट्री के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, भारत ने वित्त वर्ष 2020-21 में 292 अरब डॉलर का एक्सपोर्ट किया था. वर्ष 2021-22 में यह आंकड़ा 418 अरब डॉलर पर पहुंच गया है. भारत ने पिछले 23 मार्च को 400 अरब डॉलर के एक्सपोर्ट आंकड़े को पार कर लिया था.

गोयल ने बताया कि 31 मार्च को समाप्त हुए वित्त वर्ष में भारत का एक्सपोर्ट बेहतर रहने का बड़ा कारण पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स, इंजीनियरिंग, जेम्स और ज्वेलरी, केमिकल और फार्मा सेक्टर्स का बढ़िया प्रदर्शन रहा.

ये भी पढ़ें- भारत का निर्यात फरवरी में बढ़कर पहुंचा 34.57 अरब डॉलर, जानें कितना रहा ट्रेड डेफिसिट

अमेरिका, यूएई को सर्वाधिक एक्सपोर्ट
भारत ने सबसे ज्यादा अमेरिका को एक्सपोर्ट किया. उसके बाद संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), चीन, बांग्लादेश और नीदरलैंड का स्थान रहा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक्सपोर्ट का आंकड़ा 400 अरब डॉलर के पार पहुंचने को बड़ी उपलब्धि करार देते हुए कहा था कि यह आत्मनिर्भर भारत बनने की दिशा में मील का पत्थर है.

इकोनॉमिस्ट्स की ये चिंता
भले ही एक्सपोर्ट के मोर्चे पर भारत ने पिछले वित्त वर्ष में शानदार प्रदर्शन किया हो, लेकिन इकोनॉमिस्ट्स भविष्य को लेकर थोड़ा चिंतित दिख रहे हैं. उन्होंने आगाह किया कि रूस-यूक्रेन संघर्ष से बढ़ती आर्थिक अनिश्चितता व्यापार घाटे को और बढ़ा सकती है. इससे आगे चलकर चालू खाता घाटा बढ़ सकता है. इंटरनेशनल मार्केट में तेल की कीमतें ऊंची रहने की संभावना है. सप्लाई चेन बाधित होने के साथ बढ़ती माल ढुलाई लागत एक्सपोर्ट की राह में बाधक बन सकते हैं.

Tags: Business news in hindi, Export, Petrol, Piyush goyal



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
The Funtoosh

Most Popular

Recent Comments