Sunday, October 2, 2022
The Funtoosh
Homeपैसा बनाओनए वित्तीय वर्ष में आपके वित्त से जुड़े ऐसे 4 काम जिन्हें...

नए वित्तीय वर्ष में आपके वित्त से जुड़े ऐसे 4 काम जिन्हें बिना देर किए पूरा कर लेना चाहिए, डिटेल में पढ़ें


नई दिल्ली . हम नए वित्तीय वर्ष में कदम रख चुके हैं. नए साल में कुछ जरुरी काम ऐसे हैं जिन्हें हमें बिना देर किए पूरा कर लेना चाहिए ताकि आगामी माह तनावमुक्त रहें. ऐसे ही 4 बेहद आवश्यक कार्यों के बारे में बता रहे हैं इलेवर के सीईओ व संस्थापक अंशुल शरण.

अपनी बचत दर की समीक्षा करें

धन सृजन में बचत दर सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है. इसका आधारभूत नियम यह है कि न्यूनतम बचत दर आपकी उम्र के बराबर हो. उदाहरण के लिए यदि आप 38 वर्ष के हैं तो आपको अपनी आय का कम-से-कम 38 प्रतिशत बचत करनी चाहिए. जितनी अधिक बचत होगी उतना बेहतर होगा. यदि यह कम है तो यह समझना महत्वपूर्ण है कि यह कम क्यों है. शायद इसलिए कि आपके खर्च या आपकी ईएमआई बहुत अधिक हैं. शायद आपके पास कोई आपात स्थिति थी, और आपका आपातकालीन कोष (अगर कोई हो) पर्याप्त नहीं था. इसके कई कारण हो सकते हैं जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता है.

ये भी पढ़ें- Good News :  महामारी कम होने के साथ देश में बढ़ने लगा Investment, तेजी से मिलेंगी नौकरियां!

अपने वित्तीय लक्ष्यों की समीक्षा करें

लक्ष्य प्राथमिकता- यदि प्राथमिकता में कोई बदलाव होता है तो उसके अनुसार लक्ष्यों को पुनः प्राथमिकता देने की आवश्यकता होती है. जैसे कि आपके पास एक नया वित्तीय लक्ष्य हो सकता है जिसे उच्च प्राथमिकता की आवश्यकता हो जिसके परिणामस्वरूप अन्य मौजूदा लक्ष्यों की प्राथमिकता घटाई जा सकती है. उदाहरण के लिए, कार खरीदने की तुलना में घर खरीदना एक उच्च प्राथमिकता हो सकती है.

लक्ष्य- यह समझना आवश्यक है कि क्या किसी बाहरी घटना ने आपके लक्ष्य को महत्वपूर्ण रूप से बदल दिया है. उदाहरण के लिए, उच्च मुद्रास्फीति ने आपकी शिक्षा निधि आवश्यकताओं को और अधिक बढ़ा दिया है.

लक्ष्य की स्थिति- यह समझने की आवश्यकता है कि क्या आप वांछित समय में अपने लक्ष्य को प्राप्त करने की राह पर हैं? यदि नहीं, तो पोर्टफोलियो या निवेश राशि में आवश्यक परिवर्तन आवश्यक हैं.

एसेट एलोकेशन की समीक्षा करें

संभव है कि आपने अपने जोखिम प्रोफाइल के आधार पर इक्विटी, डेट, सोना और रियल एस्टेट का मिश्रण लेने का फैसला किया होगा. लेकिन बाजार संबंधी हलचल के कारण ये वर्ष के बीच में बदल सकते हैं. ऐसे में आपको अपना पोर्टफोलियो रीबैलेंस करने की आवश्यकता पड़ सकती है.

ये भी पढ़ें- Investment Tips: कहां से शुरू करें अपनी फाइनेंशियल प्लानिंग, कहां करें पहला निवेश, जानें यहां

इमरजेंसी फंड की समीक्षा करें

इमरजेंसी फंड का आकार आदर्श रूप से ऐसा होना चाहिए कि आपके 6 महीने का खर्च निकल जाए. इसे आपके 12 महीने के खर्चे के लिए भी बनाया जा सकता है. हालाँकि, जब आप समीक्षा करते हैं तो आप महसूस कर सकते हैं कि नई कार खरीदने या नवजात के कारण आपके खर्च बढ़ गए होंगे. अगर ऐसा हुआ है तो 6 महीने के अनुसार अपने इमरजेंसी फंड की दोबारा गणना करें.

अधिक बचत करने व जिम्मेदारी से खर्च करने के 2 मूलभूत तरीके हैं जिसे इस साल आपको अपनाना चाहिए

अपने निवेश को स्वचालित करें

हममें से ज्यादातर लोग अपना पैसा खर्च करने के बाद निवेश करते हैं. यही कारण है कि अंत में हमारे पास निवेश करने के लिए बहुत कम बचता है. अपनी मानसिकता को “आय – व्यय = बचत” से “आय – निवेश = व्यय” मानसिकता में बदलें.

एक बार आय आने के बाद, किसी भी खर्च के शुरू होने से पहले निवेश को स्वचालित रूप से काट लिया जाना चाहिए और निवेश उत्पादों में लगा दिया जाना चाहिए. यदि एसआईपी को ऑटोमेटेड नहीं किया जा सकता है तो अधिक सरल तरीका यह है कि आय से निवेश का हिस्सा निकालें और उन्हें एक अलग बचत खाते में रख दें जहां से आप निवेश कर सकते हैं. यह अभ्यास सुनिश्चित करेगा कि आप केवल वही खर्च करें जो उपलब्ध है.

ये भी पढ़ें- Mutual Fund : छोटी-छोटी रकम बचाकर बना सकते हैं 50 लाख का फंड, बच्चे की पढ़ाई में नहीं होगी दिक्कत

क्या आपको 2022-23 में पैसिव फंड में निवेश करना चाहिए?

म्यूचुअल फंड उद्योग ने निष्क्रिय फंडों की वृद्धि देखी है जो कि इंडेक्स फंड और एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड हैं. इनका एयूएम यानी इनके तहत आने वाली कुल रकम फरवरी 2022 में 5.3 लाख करोड़ रुपये थी. यह पिछले छह वर्षों में 70 प्रतिशत की चक्रवृद्धि बढोतरी है. भारतीय म्युचुअल फंड उद्योग में पैसिव फंड की हिस्सेदारी फरवरी 2016 में 0.8 प्रतिशत से बढ़कर फरवरी 2022 में 14 प्रतिशत हो गई है. अमेरिका और यूरोप जैसे परिपक्व बाजारों में निष्क्रिय फंडों की बाजार हिस्सेदारी 40% -50% है.

संपत्ति के तौर पर क्रिप्टो का उभरना

महामारी के बाद के युग की सबसे बड़ी कहानी क्रिप्टो संपत्तियों का बड़े पैमाने पर मुख्यधारा में आना है. 2021 में करीब 10.07 करोड़ क्रिप्टो मालिकों के साथ भारत में क्रिप्टो निवेश में आश्चर्यजनक वृद्धि देखी गई है. वहीं, बहुत सारे क्रिप्टो एक्सचेंज हैं जो निवेश की सुविधा प्रदान करते हैं. कुछ एक्सचेंजों में बास्केट भी होते हैं, जो ईटीएफ की तरह काम करते हैं. सरकार वित्त वर्ष 2022-23 के बजट में क्रिप्टो संपत्ति को कराधान के दायरे में ले आई है. क्रिप्टोक्यूरेंसी संबंधी नियम कड़े होने के साथ ही पारंपरिक शेयर बाजार से निवेशकों का प्रवाह इस परिसंपत्ति वर्ग में बढ़ सकता है. हालांकि, निवेशकों को यह समझना चाहिए कि क्रिप्टो एक उच्च जोखिम वाला उत्पाद है और इसे समझदारी से निवेश करना चाहिए. आदर्श रूप से आपके पोर्टफोलियो का केवल 5-10% हिस्सा क्रिप्टो में होना चाहिए.

Tags: Crypto currency, Investment, Small Savings Schemes



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
The Funtoosh

Most Popular

Recent Comments